Total Corona cases in Delhi 445, 59 new cases in 24 hours, local transmission cases stable at 40: CM Arvind Kejriwal


  • We have been successful in containing the community spread of Corona in Delhi: CM Arvind Kejriwal
  • Out of 6 deaths, 3 were from Markaz, 5 of them were above 60 years and suffering from other major diseases: CM Arvind Kejriwal
  • On 3rd April, 6,63,928 people were provided lunch and 6,78,544 people were provided dinner at our relief centres: CM Arvind Kejriwal
  • We have written to the Centre to supply PPE kits for our doctors and nurses, we haven’t received any PPE kit from the Union government so far: CM Arvind Kejriwal

OFFICE OF HON’BLE CHIEF MINISTER
Govt of Delhi NCT
PRESS RELEASE

Addressing a digital press conference Delhi Chief Minister Mr Arvind Kejriwal on Saturday said that the number of coronavirus cases stood at 445 in Delhi but the situation was under control and there was no community transmission. There were 40 cases of local transmission while a majority of other patients either had foreign travel history or they were recently evacuated from Nizamuddin Markaz, he said. He also said that the non-ration cardholders must register soon and they will start getting free ration from Wednesday or Thursday.

“Among all the patients who have Coronavirus around 11 are in ICU and five are in ventilators. we can say that this is the local transmission and not community transmission. In community transmission, people do not get to know from whom they are getting affected but right now no such situation has occurred in Delhi. We have found 2300 people from the Markaz. Among these people, 500 are admitted to various hospitals and around 1800 are in quarantine. We are testing all the 500 people because they have various symptoms and all of them may be suffering from Coronavirus which means the number of COVID-19 positive cases in Delhi will increase. But I want to reiterate that this is not community transmission so there is nothing to worry yet,” said Mr Kejriwal.

He said that till now Delhi has witnessed six deaths due to coronavirus. “Among these six people five were above 60 and one person was 36-year-old. Among these six people, three were from Markaz. Among these six people, five people had other serious diseases. One person had liver disease, one person had sugar, two persons had a respiratory disease and one person had heart disease. I want to request all the senior citizens who are above 55 or 60 years that you should be very very cautious about the situation and do not go outside. All the senior citizens are very precious us and I do not want any of them to suffer. I will also request the people who have serious diseases to be very cautious because Coronavirus can be lethal for them,” said the CM.

“Right now I have to priorities number one is to ensure that there should not be any community spread of Coronavirus and the second one is if somebody is affected by Coronavirus then the person should get the best treatment and no death should happen in Delhi. I am personally monitoring the situation in Delhi and I have every record of the persons who are affected by the Coronavirus. We will ensure the best health facility and treatment to these patients in Delhi,” said Mr Kejriwal.

The CM said that Yesterday the Delhi government has distributed lunch to around 6,63,928 people and dinner to around 6,78,544 people. “The Delhi government has the arrangement to feed more than 10,00,00 people. I am happy to say that many NGOs and religious organisations are also distributing food to needy people. This is the time to show humanity to the people and feeding hungry people is always good work. I will request everyone to ensure that not a single person in Delhi should stay hungry,” said the CM.

Mr Kejriwal said, “We have already announced that the Delhi government will give 7.5 kg free ration to 71 lakh people who ration cards. There are around 6.5,00,00 people who have earlier applied for the ration card but did not get it and we have decided to give these people also the benefit of free ration. Many poor people do not have any ration card and for them, from yesterday we have created a website where you need to fill a form to get registered. After the registration, we will give you the benefit of free ration. Many people are asking me what is the need for registration? We are doing the registration process because if we open the distribution process for everyone then there are chances that one person will come many times to take ration and then there will be a shortage of ration. From yesterday nearly 40 to 50,000 people have already registered and I will request others also to register soon. I will request the people who know how to handle internet and computer to help these poor people to register. All these people will get 5 KGs of free ration.”

He also said, “Recently due to the Nizamuddin incident and as Delhi already has many foreign patients the number of Coronavirus patients have suddenly increased. Right now we urgently need PPE kits and we have already written to the Central government about it. I do not want the doctors and nurses to work without the protective gear but the centre is yet to provide us with these kits. I will request the Centre to provide us with PPE kits urgently.”


दिल्ली सरकार की पहली कोशिश कोरोना न फैले, दूसरी, इससे मौतें न हो, मैं खुद एक-एक मरीज पर नजर रख रहा हूं- अरविंद केजरीवाल

  • दिल्ली में 24 घंटे में 59 नए मामले आए, स्थानीय संपर्क के सिर्फ 40 मरीज, दिल्ली में स्थिति अभी नियंत्रण में- अरविंद केजरीवाल
  • दिल्ली में अब तक 6 लोगों की मौत हुई, उसमें 3 मरकज के थे, 5 की उम्र 60 से अधिक व एक की उम्र 36 थी, 5 मृतक पूर्व से किसी गंभीर बीमारी से भी ग्रसित थे- अरविंद केजरीवाल
  • केंद्र सरकार से अभी तक एक भी पीपीई किट नहीं मिली, हमने कल केंद्र सरकार को पत्र लिख कर तुरंत पीपीई किट देने की मांग की है, ताकि निडर होकर डाॅक्टर मरीजों का इलाज कर सकें- अरविंद केजरीवाल
  • पिछले कुछ सालों में राशन कार्ड के लिए आवेदन करने वाले 6.5 लाख लोगों को बुधवार या बृहस्पतिवार से राशन मिलने की उम्मीद, 40 से 50 हजार लोगों ने वेबसाइट पर जाकर आवेदन किया, सभी को राशन देंगे- अरविंद केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में पिछले 24 घंटे के अंदर कोरोना के 59 नए मरीज सामने आए हैं। इसमें सबसे अधिक मरीज विदेश से आने वाले और मकरज के हैं। सिर्फ 40 मरीज ऐसे हैं, जिन्हें इनके संपर्क में आने से कोरोना हुआ है। मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली में मरकज की वजह से कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ने की उम्मीद है। केंद्र सरकार को पत्र लिख कर पीपीई किट तत्काल मुहैया कराने की मांग की गई है, ताकि डाॅक्टर निडर होकर मरीजों का इलाज कर सकें। अभी तक केंद्र सरकार ने एक भी पीपीई किट नहीं दिया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमारी कोशिश है कि दिल्ली में न तो कोरोना न फैले और न तो इससे किसी की मौत हो। पिछले कुछ सालों में राशन कार्ड के लिए आवेदन करने वाले करीब 6.5 लाख लोगों को दिल्ली सरकार ़5-5 किलो राशन देगी। अभी तक दिल्ली की वेबसाइट पर भी करीब 40 से 50 हजार लोगों ने आवेदन किया है। इन्हें बुधवार या बृहस्पतिवार से राशन मिलने लगेगा।

दिल्ली में 445 मरीजों में से 11 आईसीयू और 5 वेंटिलेटर पर- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पिछले 24 घंटे में दिल्ली में कोरोना के 59 नए केस आए हैं और दिल्ली में अब कुल 445 कोरोना के केस हो चुके हैं। एक बार सुनने में लगता है कि बहुत ज्यादा केस हैं, लेकिन इसका विश्लेषण करते हैं, तो 445 में एक-दूसरे को छूने से जिन्हें कोरोना हुआ है, उनकी संख्या केवल 40 हैं। बाकी सभी केस मकरज या विदेशों से आए लोगों के हैं। पिछले दो महीने से जितनी फ्लाइट विदेशों से भारत आ रही थीं, भारत में आने के बाद उन्हें एयरपोर्ट से सीधे 14 दिन क्वारंटाइन के लिए दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में रखा गया था। उनमें से कुछ लोग पाॅजिटिव निकलते थे, उन्हें फिर अस्पताल लेकर जाया गया। विदेशों से कोरोना बीमारी लेकर आए और मरकज के मरीजों को अलग कर दें, तो दिल्ली के अंदर एक-दूसरे को छूने से मात्र 40 केस हुए हैं। यह आंकड़े हमारी चिंता को दूर करती है कि दिल्ली में अभी कोरोना नियंत्रण में है। इसमें 6 लोगों की अभी तक मौत हुई है, जिन लोगों की मौत हुई है, उनका भी विश्लेषण किया गया है। दिल्ली के अस्पतालों में भर्ती कुल मरीजों में 11 आईसीयू में हैं और 5 वेंटिलेटर पर हैं। इनको हम कह सकते हैं कि इनकी हालत थोड़ी गंभीर है। बाकी लोगों की हालत स्थिर है। इसे अभी हम स्थानीय ट्रांसमिशन कहेंगे। अभी यह सामुदायिक संक्रमण नहीं हुआ है। इसका मतलब यह है कि दिल्ली में जिन 40 लोगों को कोरोना हुआ है, उन लोगों के बारे में हमें पता है कि किससे उन्हें कोरोना हुआ है। जब यह पता करना मुश्किल हो जाए कि किसको किससे हुआ है, तो हम कहते हैं कि सामुदायिक फैला हुआ है।
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मरकज से लगभग 2300 लोगों को निकाला गया था, उनमें से 500 लोगांे को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इनमें कोरोना के लक्षण हैं। इन्हें खांसी है, सांस लेने में दिक्कत है और बुखार है। 1800 लोगों को क्वारंटाइन में रखा गया है। इन सभी 2300 लोगों की जांच कराई जा रही है। अगले दो-तीन दिनों के अंदर उनकी जांच के नतीजे आएंगे। इसके बाद संभव है कि एकदम से दिल्ली में मरीज बढ़ जाए। हमें विदेश और मकरज से आने वालों के साथ सभी लोगों की चिंता है। हमारी इससे भी बड़ी चिंता यह है कि दिल्ली में कोरोना किसी भी हालत में फैलना नहीं चाहिए। फैलने से किसी भी हालत में रोकना है। उसको हम अभी तक नियंत्रित करने में कामयाब रहे हैं।

बुजुर्गों और गंभीर रोग से पीड़ित व्यक्ति को कोरोना में अपना ख्याल रखने की जरूरत- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के अंदर अभी तक 6 मरीजों की मौत हुई है। इन 6 में से 3 लोग मरकज थे और 3 अन्य लोग थे। इन 6 में से 5 लोग 60 साल से अधिक उम्र के थे और एक 36 साल उम्र के थे। इन 6 में से 5 को कोई न कोई दूसरी बड़ी बीमारी थी। एक को लीवर की बीमारी थी। एक को सुगर की बीमारी थी, दो को सांस की बीमारी थी और एक को हार्ट की बीमारी थी। सुनने में आता है कि बुजुर्गों को संभल कर रहना है। 55-60 साल के उम्र के लोगों को संभल कर रहना है। सभी बुजुर्गों से मेरी हाथ जोड़ कर विनती है कि अपना ख्याल रखें। हमें आपकी बहुत चिंता है। घर में रहें, लोगों से कम से कम मिलें। आप हमारे के लिए बहुत कीमती हैं। यह बड़ा नाजुक दौर है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन लोगों को सुगर, सांस, हार्ट या लीवर की बीमारी है या कोई अन्य गंभीर बीमारी है, उन लोगों को भी अपने आप को बचा कर रखने की जरूरत है। उनके लिए कोरोना खतरनाक हो सकता है। मेरी पहली कोशिश है कि दिल्ली में कोरोना बिल्कुल भी न फैले। कोरोना को फैलने से रोकना है। इसके लिए जो भी करना पड़ेगा, वह हम कर रहे हैं। इसके बाद भी किसी को कोरोना हो जाए, तो मेरी दूसरी कोशिश है कि वह ठीक होकर सही सलाम अपने घर चला जाए। कोरोना से होने वाली मौतों को रोकना हमारी दूसरी कोशिश है। हम कोशिश कर रहे हैं कि कोरोना से कम से कम, या किसी की मौत न हो। मेरे पास दिल्ली के हर कोरोना पीड़ित की पूरी हिस्ट्री है और एक-एक मरीज की व्यक्तिगत रूप से निगरानी कर रहा हूं। एक-एक मरीज पर हम लोग नजर रख रहे हैं। हम कोशिश कर रहे हैं कि इसके मरीजों को अच्छा से अच्छा इलाज मिले।

बिना राशन कार्ड वालों को जल्द मिलेगा राशन- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री ने अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कल हम लोगों ने 663928 लोगों को लंच कराया था और 678544 लोगों को डिनर कराया था। जैसा कि हमने बताया है कि दिल्ली सरकार ने 10 लाख लोगों को लंच और डिनर कराने की व्यवस्था की है। अब इंतजाम ज्यादा है और लोग कम आ रहे हैं। हम दिल्ली में किसी को भूखा मरने नहीं देंगे। सरकार लोगों के लिए जो कर रही है, उसके अलावा बहुत सारी सामाजिक और धार्मिक संस्थाएं अपने स्तर पर 200, 400, 1000 और 10,000 खाने के पैकेट बांट रही हैं। पुण्य का काम करने का यही समय है। हमने कहा था कि जिन लोगों के पास राशन कार्ड है। ऐसे 71 लाख लोगों को हम प्रत्येक को 7.5 किलो राशन फ्री दे रहे हैं। दिल्ली में कुछ ऐसे भी लोग हैं, जिनके पास राशन कार्ड नहीं है। ऐसे लोगों के लिए दिल्ली सरकार की वेबसाइट पर एक फार्म बना कर डाला है। आप उस पर जाकर पंजीकरण कर सकते हैं। आपके पंजीकरण की जरूरत इसलिए है, क्योंकि बिना पंजीकरण के राशन बांटते हैं, तो एक ही व्यक्ति कई बार आकर राशन ले सकता है और इतना राशन नहीं है। जिन लोगों को राशन मिल गया है, उनको रोकने के लिए सिर्फ यह पंजीकरण कराया जा रहा है। दिल्ली में 6.5 लाख लोग ऐसे हैं, जिन्होंने पिछले कुछ सालों में राशन कार्ड के लिए आवेदन किया था, लेकिन उन्हें राशन कार्ड नहीं मिला है। उन सब लोगों को हम राशन देंगे। पंजीकरण करने के लिए 03 अप्रैल 2020 से वेबसाइट खुली है। उस पर अभी तक करीब 40 से 50 हजार लोग पंजीकरण कर चुके हैं। इसके अलावा भी जितने लोग पंजीकरण करेंगे, उन्हें भी राशन मिलेगा।
मुख्यमंत्री ने अपील की कि वेबसाइट पर जाकर इस फार्म को खुद भी भर सकते हैं। इसके अलावा, जितने भी पढ़े-लिखे या सामर्थ लोग हैं, वे अपने आसपास के गरीब लोगों के फार्म भरवा दें। मुझे उम्मीद है कि बुधवार या बृहस्पतिवार से आप लोगों को भी राशन मिलना शुरू हो जाएगा। प्रत्येक व्यक्ति को 5-5 किलोग्राम राशन मुफ्त में दिया जाएगा।

केंद्र से पीपीई किट मांगा, अभी तक नहीं मिला, हमें अपने डाॅक्टर व नर्सों की चिंता- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली की स्थिति थोड़ी नाजुक है। दिल्ली के अंदर विदेशों से बहुत लोग आए हैं, जिनकी जिम्मेदारी दिल्ली के लोगों को उठानी पड़ी है। मरकज के अंदर से 2300 लोगों को निकाला गया है और अब 2300 लोगों में से उम्मीद है कि बहुत से लोग कोरोना के पाॅजिटिव निकलेंगे। बाकी सभी जरूरतों का दिल्ली सरकार इंतजाम कर रही है, लेकिन अचानक से पीपीई किट की कमी हो गई है। मैं खास कर अपने डाॅक्टर, नर्स और स्टाॅफ को लेकर काफी चिंतित हूं। मैं नहीं चाहता हूं कि किसी डाॅक्टर या नर्स को बिना पीपीई के किसी कोरोना मरीज का इलाज करना पड़े। कल मैने केंद्र सरकार को पत्र भी लिखा था। केंद सरकार से अभी तक हमें एक भी पीपीई किट नहीं मिला है। कल हमने केंद्र सरकार को लिखा था कि हमें पीपीई किट्स तुरंत मुहैया कराया जाए, ताकि हमारे डाॅक्टर मरीजों का बिना किसी डर के इलाज कर सकें।