Delhi govt releases Rs 5,000 assistance amount to 7,242 workers who applied for registration in second phase


  • A week ago Delhi govt released Rs 5,000 assistance to 32,358 construction workers through Delhi Labour Welfare Board
  • Delhi govt directly transferring assistance money in the account of the construction workers

The Delhi government has released an assistance of Rs 5,000 for 7,242 construction workers of Delhi who had applied for registration but their application was pending with the Delhi Labour Welfare Board in the second phase. In this regard, the Delhi government has released a total of Rs 3.6 crore. A week ago the Delhi government had given the assistance amount to 32,358 registered construction workers. The money is being transferred directly to the account of these labourers.

To tackle the Coronavirus outbreak, India is under 21 days lockdown. The Delhi government is working hard to ensure every basic facility to the people. The Delhi government is very concerned with the economic crisis faced by poor people due to this lockdown, therefore, Delhi CM Mr Kejriwal last week announced the assistance to Construction workers.

Amid the surge in cases of Coronavirus in Delhi, CM Arvind Kejriwal announced a heap of measures, such as doubling pension under various pension schemes of the Delhi government, free ration for 71 lakh beneficiaries and free food in the night shelters across the city. The Delhi government has also decided to double the pension under the widow pension scheme for 2.5 lakh beneficiaries, the old-age pension scheme for 5 lakh beneficiaries, and disability pension scheme for 1 lakh beneficiaries. The beneficiaries have already started getting the amount.


पंजीकरण के लिए आवेदन करने वाले 7242 कंस्ट्रक्शन लेबर के खाते में भी पहुंची दिल्ली सरकार की 5-5 हजार की मदद

  • मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निर्देश पर दिल्ली लेबर वेलफेयर बोर्ड ने एक सप्ताह पहले भी 32358 पंजीकृत कंस्ट्रक्शन लेबर के खाते में भेजी थी 5-5 हजार रुपये की सहायता राशि
  • पंजीकरण के लिए आवेदन करने वाले 7242 कंस्ट्रक्शन लेबर के खाते में पंजीकरण के बाद भेजी गई है धनराशि, बचे कंस्ट्रक्शन लेबर को भी जल्द मिलेगी मदद

दिल्ली सरकार ने लाॅक डाउन के चलते आर्थिक संकट से जूझ रहे निर्माण कार्य से जुड़े 7242 दिहाड़ी मजदूरों के खाते में 5-5 हजार रुपये की सहायता राशि भेज दी है। इन कंस्ट्रक्शन लेबर के खाते में दिल्ली लेबर वेलफेयर बोर्ड ने कुल 3.62 करोड़ रुपये की धनराशि भेजी है। एक सप्ताह पहले भी मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निर्देश पर बोर्ड ने पंजीकृत 32358 कंस्ट्रक्शन मजदूरों के खाते में 5-5 हजार रुपये की (कुल 16.18 करोड़) सहायता राशि भेजी थी। 9 अप्रैल को जिन 7242 कंस्ट्रक्शन मजदूरों के खाते में पैसे भेजे गए हैं, उनका पूर्व में पंजीकरण नहीं था। इसलिए इन्हें मदद मिलने में थोड़ा समय लगा है। शेष कंस्ट्रक्शन लेबर को भी पंजीकरण के बाद सहायता राशि शीघ्र भेज दी जाएगी।

गौरतलब है कि कोरोना प्रकोप से उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए 24 मार्च की रात 12 बजे दिल्ली समेत पूरे देश में 21 दिन का लाॅक डाउन कर दिया गया है। दिल्ली सरकार लाॅक डाउन की वजह से लोगों को हो रही परेशानियों को कम करने का पूरा प्रयास कर रही है। प्रतिदिन काम करके घर का खर्च चलाने वाले निर्माण कार्य से जुड़े मजदूरों को आर्थिक मदद करने के लिए भी दिल्ली सरकार काफी गंभीर है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लाॅक डाउन के दौरान निर्माण कार्य से जुड़े मजदूरों को राहत देते हुए उन्हें 5-5 हजार रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा की थी। यह सहायता राशि दिल्ली लेबर वेलफेयर बोर्ड के तहत पंजीकृत कंस्ट्रक्शन लेबर को दी जा रही है। दिल्ली लेबर वेलफेयर बोर्ड ने मुख्यमंत्री के निर्देश पर करीब 10 दिन पहले 32358 कंस्ट्रक्शन लेबर्स के खातें में 5-5 हजार रुपये भेज दिया था। निर्माण कार्य से जुड़े जिन कंस्ट्रक्शन लेबर्स का दिल्ली लेबर वेलफेयर बोर्ड के तहत पंजीकरण नहीं हुआ था, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उनका पंजीकरण कराने का निर्देश दिया था। मुख्यमंत्री के निर्देश पर उन सभी कंस्ट्रक्शन लेबर का पंजीकरण कराया जा रहा है। अभी तक पंजीकरण के लिए आवेदन करने वाले 7242 कंस्ट्रक्शन लेबर का बोर्ड में पंजीकरण हुआ है। इन मजदूरों को भी अब दिल्ली लेबर वेलफेयर बोर्ड ने आर्थिक मदद के तौर पर 5-5 हजार रुपये उनके खाते में 9 अप्रैल को भेज दिया है। अब निर्माण कार्य से जुड़े लगभग सभी पंजीकृत दिहाड़ी मजदूरों के खाते में धनराशि भेज दी गई है।