Delhi govt provided lunch and dinner to around 6.5 lakh people across Delhi


  • On April 4 Delhi govt provided lunch to 6,48,469 people and dinner to 6,50,667 people at around 1,500 centres
  • On April 4 Delhi govt received 1040 calls or requests for food from different locations of Delhi and provided food to all

The nationwide lockdown implemented to prevent the Coronavirus from spreading has affected the poor people majorly. As an aid to these people who do not have work, money and shelter, the Delhi government under the leadership of Hon’ble Chief Minister of Delhi Mr Arvind Kejriwal provided lunch and dinner to around 6.5 lakh people on April 4, 2020.. On April 4 Delhi govt gave lunch to 6,48,469 people and dinner to 6,50,667 people at around 1,592 centres. The Delhi government is also getting requests for food from various parts of the city and on April 4 Delhi govt got 1040 calls or requests for food from different locations of Delhi. Based on these calls or requests the Delhi government has also ensured food. From April 1 the Delhi Government is providing lunch and dinner to over 6 lakh people everyday and has the capacity to provide food to 10-12 lakh people.

The Hon’ble CM of Delhi had announced on Tuesday, March 31, that the Delhi government is preparing to arrange facilities to feed 10 to 12 lakh people a day from April 1. For this, the government has been putting efforts to arrange 3,000 centres, each with a capacity of feeding 500 people per day.

Nearly 2,500 schools and 250-night shelters have started distributing food to 500 people a day, each bringing the total number of distribution centres to nearly 2,800.

Mr Kejriwal had said, “We are feeding 3.5 lakh-4 lakh people daily until now, and we will start feeding 10-12 lakh people from tomorrow. Upon further deliberations on this, we found out that people were crowding at the food centres. So we decided to create more centres.”

To ensure that the government’s free meal scheme is equitably accessible to the needy so that they do not have to walk for miles looking for food, the Delhi government has made the schools and night shelters as key food distribution points. From the day of the lockdown, the Delhi government started with the distribution of foods at the existing 234-night shelters and 35 community halls. At the time of food distribution, the Delhi government is also ensuring social distancing, safety and sanitation for the people.


दिल्ली सरकार के भोजन केंद्रों पर करीब 6.5 लाख लोगों ने किया लंच और डिनर

  • 04 अप्रैल को दिल्ली सरकार ने लगभग 1,592 केंद्रों पर 648469 गरीबों ने लंच और 650667 लोगों ने किया डिनर
  • घर से भोजन केंद्रों तक आकर खाने में असमर्थ 1040 लोगों को कॉल या अनुरोध पर पहुंचाया गया खाना
  • एक अप्रैल से दिल्ली सरकार ने भोजन केंद्रों की संख्या बढ़ाकर 10 लाख लोगों को लंच और डिनर कराने की व्यवस्था की है

नई दिल्ली, 5 अप्रैल, 2020

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लागू किए गए राष्ट्रव्यापी लॉक डाउन ने मुख्य रूप से गरीबों को प्रभावित किया है। जिन लोगों के पास रोजगार, पैसा और आश्रय नहीं है, उनके लिए दिल्ली सरकार ने विभिन्न स्थानों पर भोजन केंद्र खोल कर मुफ्त खाना मुहैया कराने की व्यवस्था की है। दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में 04 अप्रैल, 2020 को करीब 6.5 लाख लोगों को दोपहर और रात का भोजन उपलब्ध कराया है। 04 अप्रैल को दिल्ली सरकार ने करीब 1592 केंद्रों पर 648469 लोगों को दोपहर और 650667 लोगों को रात में भोजन दिया। इसके अलावा, सरकार को दिल्ली के विभिन्न इलाकों से भोजन के लिए फोन कॉल्स और अनुरोध भी आ रहे हैं। 04 अप्रैल को दिल्ली के विभिन्न स्थानों से भोजन के लिए 1040 कॉल और अनुरोध आए। उन सभी लोगों को दिल्ली सरकार ने भोजन उपलब्ध कराया है। दिल्ली सरकार 01 अप्रैल से प्रतिदिन 6 लाख से अधिक लोगों को लंच और डिनर उपलब्ध करा रही है। सरकार के पास प्रतिदिन 10 लाख लोगों को लंच और डिनर कराने की क्षमता है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 31 मार्च को घोषणा की थी कि दिल्ली सरकार 1 अप्रैल से प्रतिदिन 10 से 12 लाख लोगों को खाना खिलाने की व्यवस्था कर रही है। इसके लिए सरकार करीब 2800 केंद्र बना रही है और प्रत्येक केंद्र पर प्रतिदिन 500-500 लोगों के खाने की क्षमता है। प्रतिदिन करीब 2,500 स्कूलों और 250 रैन बसेरों में 500-500 लोगों को भोजन वितरित करना शुरू कर दिया है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक सप्ताह पहले कहा था, “अभी हम प्रतिदिन 3.5 से 4 लाख लोगों को भोजन दे रहे थे, जहां खाना खाने वालों की भीड़ बढ़ रही थी। सरकार ने इस पर विचार-विमर्श किया और जरूरत के मुताबिक कई अन्य जगहों पर भोजन केंद्र खोलने का फैसला किया। लिहाजा, इसकी क्षमता बढ़ा कर अब 10-12 लाख लोगों को खाने खिलाने की कर दी गई।

सरकार की मुफ्त भोजन योजना जरूरतमंदों के लिए समान रूप से सुलभ हो, ताकि उन्हें भोजन की तलाश में मीलों पैदल न चलना पड़े। दिल्ली सरकार ने यह सुनिश्चित करने के लिए स्कूलों और रैन बसेरों को भोजन वितरण का केंद्र बनाया है। दिल्ली सरकार ने लॉक डाउन के दिन से ही मौजूदा 234 रैन बसेरों और 35 सामुदायिक केंद्रों में खाद्य पदार्थों के वितरण की शुरुआत कर दी थी। दिल्ली सरकार खाद्य वितरण के समय लोगों के लिए सामाजिक दूरी, सुरक्षा और स्वच्छता सुनिश्चित कर रही है।