CM Arvind Kejriwal announces 5T plan for Delhi to tackle COVID-19 cases


  • The 5T plan is Testing, Tracing, Treatment, Team Work and Tracking & monitoring: CM Arvind Kejriwal
  • Will conduct one lakh random COVID-19 tests in Delhi’s hotspots: CM Arvind Kejriwal
  • We have given 27,702 contact numbers to the police; this will also help in tracing Markaz event attendees and their movements to nearby areas: CM Arvind Kejriwal
  • For 525 COVID-19 positive cases, Delhi is currently prepared for admitting 3000 patients: CM Arvind Kejriwal
  • We have also prepared a detailed plan for admitting 30000 COVID-19 patients for which we will take over hotels and banquets as required: CM Arvind Kejriwal

PRESS RELEASE
OFFICE OF THE CHIEF MINISTER
GOVT. OF NCT OF DELHI

New Delhi: Chief Minister Arvind Kejriwal on Tuesday addressed the media on the prevailing coronavirus situation in the national capital, announcing the 5T plan of the Delhi government to tackle COVID-19 cases in Delhi. The 5T plan is Testing, Tracing, Treatment, Team Work and Tracking & monitoring. He also said that the administration will conduct one lakh tests in the city to identify the COVID hotspot areas in the city.

CM Arvind Kejriwal said, “There is a worldwide Coronavirus outbreak, and we have to formulate a strategy on how to deal with the pandemic by learning from other nations. All these things have certainly taught us that we have to be 3 steps ahead of Corona, or else we will not be able to contain it. All the nations who have managed to be a step ahead of Corona, have managed to control it. I have been in touch with various experts and doctors through the course of the last few days. We have formulated a 5-point plan to be able to deal with the situation in Delhi.”

“This is a 5T plan, wherein the first T is testing. We have observed that the nations where testing was not done, were not able to contain the outbreak of Corona. Maximum testing enables us to know the actual stats of people affected by Corona. South Korea, for instance, increased its testing capacity so that it can quarantine and treat infected people, and control further spread of the virus. Just as South Korea, we will be testing on a larger scale. We had a deficiency in the number of testing kits until now, but now we are able to increase the testing capacity. We have ordered testing for around 50,000 people, and we have also ordered rapid testing rounds for 1 lakh people which will begin from Friday. Through rapid testing, we will be able to identify the hotspot areas of the COVID-19 outbreak and take necessary action,” he added.

CM Arvind Kejriwal said, “The second T is tracing, which involves identifying and self-quarantining people who have come in contact with an infected person in the 14-day period, through an efficient mechanism with the help of our doctors. We have also started taking the help of the police who will trace whether the people who have been advised to self-quarantine themselves have actually done it or not. For this, we have given 27,702 contact numbers to the police, through which they will be able to trace their movement. Through this, we will also be able to monitor the movements of the people who were taken out of Markaz. The places visited by these people will then be sealed based on their movements around. We will be able to quarantine, seal and monitor people based on tracing.”

CM Arvind Kejriwal gave a clear mapping of enhancing Delhi’s capacity to handle 30000 cases in the city. He said that apart from increasing beds in the existing hospitals, 12000 beds in hotels have been prepared and banquets and dharamshalas have also been included for setting up isolation facilities. He said, “The third T is treatment. There are 525 COVID-19 positive cases in Delhi. We have around 3000 beds ready for treatment. LNJP ans GB Pant hospitals have been declared as primary hospitals for Corona treatment with 1500 beds and 500 beds respectively, and no other treatments are being carried out there. Rajiv Gandhi hospital has 450 beds and has been declared as Corona hospital. In this way, 2450 beds for COVID-19 treatment are there in the government hospitals, and 450 beds are there in the private hospitals, in Max Saket Hospital with 350 beds for COVID treatment, and 50 beds in Apollo hospital, and 42 beds in Ganga Ram hospital. These make a total of 2950 beds. We have enough beds to handle 3000 cases, and if the cases cross 3000, we will declare GTB hospital as the Corona hospital. We have 1500 beds in GTB hospital, which will make it to a total of 4500 beds. We have mapped these requirements upto 30000 active patients in Delhi, wherein we will have 8000 hospital beds and 12000 beds in hotels, and 10000 patients will be placed in banquets and dharamshalas. Serious patients who are suffering from heart diseases etc, and patients above 50 years will be isolated in hospitals, and the rest with minor symptoms will be kept in isolation in hotels and dharamshalas. We will need 400 ventilators and 1200 oxygen kits for 30,000 patients. For now, the shortage of PPE kits that we were facing will be resolved, since the Union government has helped us by giving us 27,000 PPE kits.”

“The 4th T is teamwork. Noone can work on containing Corona alone. It requires teamwork and a collective effort to do that, and I am happy that all the state governments and the central government are fighting together against it. All the state governments must learn from each other, and work towards eliminating Corona. We should be happy with each other’s successes. We should work together as one family. Doctors and nurses are an essential part of this family. We have to save their lives because they are our warriors. Also, I would like to appeal to the people to stay inside and maintain social distancing. I am happy that people who have resources are coming forward to help the needy. Organisations are donating food to the people, and all parties, whether opposition or not, are working together in this crisis. A few days back, I had interacted with the BJP Delhi MLAs, and I will be interacting with all MPs tomorrow to deliberate on the situation,” said CM Kejriwal.

CM Kejriwal said, “The 5th T is tracking and monitoring. It is my responsibility to ensure that all these measures are in place and all the systems are functioning smoothly. I am tracking and monitoring all these things 24×7.”


दिल्ली में 5-टी प्लान को अमल में लाकर जीतेंगे कोरोना से जंग – अरविंद केजरीवाल

  • कोरोना से लड़ने के लिए दिल्ली सरकार टेस्टिंग, ट्रेसिंग, ट्रीटमेंट, टीम वर्क और ट्रैकिंग एंड माॅनिटरिंग योजना पर काम करेगी- अरविंद केजरीवाल
  • एक लाख रैपिड टेस्ट करा कर कोरोना मरीजों को चिंहित कर 14 दिन के लिए करेंगे क्वारेंटाइन – अरविंद केजरीवाल
  • दिल्ली में 30 हजार कोरोना के एक्टिव मरीजों तक की व्यवस्था, बैंक्वेट और धर्मशालाओं में ठहराएं जाएंगे 10 हजार मरीज, जरूरत के मुताबिक किए जाएंगे टेकओवर- अरविंद केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमें कोरोना को मात देने के लिए हमेशा उससे तीन कदम आगे चलना पड़ेगा। आज पूरी दुनिया कोरोना से परेशान है और उसे फैलने से रोकने के लिए रणनीति बना कर काम कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर हम सोते रहे और कोरोना फैल गया, तब उसे निंयतित्र नहीं कर पाएंगे। लिहाजा, मैंने दुनिया के देशों से अनुभव लेते हुए विशेषज्ञों और डाॅक्टरों के साथ विचार-विमर्श किया। जिसके बाद हमने दिल्ली में कोरोना को जड़ से खत्म करने के लिए 5 बिंदुओं पर सख्ती के साथ काम करने की योजना बनाई है।

यह 5-टी प्लान ( टेस्टिंग, ट्रेसिंग, ट्रीटमेंट, टीम वर्क और ट्रैकिंग एंड माॅनिटरिंग) है, जिसका पालन करते हैं, तो कोरोना को पराजीत कर देंगे। हम दिल्ली में रैपिड टेस्ट शुरू करने जा रहे हैं, ताकि कोरोना मरीज को चिंहित कर उसे क्वारेंटाइन किया जा सके और इसे आगे बढ़ने से रोका जा सके। साथ ही दिल्ली सरकार ने भविष्य में यदि कोरोना के मरीज बढ़ते हैं, तो उसके लिए चरणबद्ध तरीके से 30 हजार एक्टिव मरीजों का इंतजाम करने का खाका तैयार किया है।

रैपिड टेस्ट के बाद हाॅट स्पाॅट एरिया में डिटेल टेस्ट भी कराया जाएगा- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने डिजिटल प्रेस कांफ्रेंस कर कोरोना से लड़ने के लिए तैयार की गई भविष्य की योजनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि पहला टी है, टेस्टिंग। हमने देखा कि जिन देशों ने कोरोनों की जांच नहीं की, वहां जब कोरोना फैल गया तो वे लोग कोरोना को नियंत्रित नहीं कर पाए। अगर जांच ही नहीं करेंगे और आप को पता ही नहीं चलेगा कि कहां-कहां और किस -किस घर में कोरोना फैला हुआ है? आप जांच नहीं किए और कोरोना फैलता गया, एक आदमी से दूसरा और दूसरे से तीसरा, इस तरह से चारों तरफ फैलता जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम साउथ कोरिया का उदाहरण ले सकते हैं। साउथ कोरिया ने बहुत बड़े स्तर पर जांच कर एक-एक आदमी को चिंहित किया कि इसको कोरोना है। उसका क्वारेंटाइन और इलाज किया गया। उन्होंने एक-एक आदमी को चिंहित किया, ताकि कोरोना दूसरे आदमी तक न पहुंच सके। अगर हम जांच ही नहीं करेंगे, तो हमें पता ही नहीं चलेगा कि कौन प्रभावित और संक्रमित हो गया। अब इसको हम बहुत बड़े स्तर पर साउथ कोरिया की तरह जांच करने जा रहे हैं। अभी तक टेस्टिंग किट की बहुत बड़ी समस्या थी। अब समस्या थोड़ी सुधरी है। हमने पहले ही 50 हजार लोगों की जांच के लिए आँर्डर किया हुआ है और वह आँर्डर आने शुरू हो गए हैं।

एक लाख लोगों के रैपिड टेस्ट के लिए हमने आँर्डर कर दिया है और शुक्रवार से वह टेस्टिंग किट आ जाएंगी। रैपिट टेस्ट के बाद हमारे जो भी हाॅट स्पाॅट हैं, जहां हमें लगता है कि कोरोना के मरीज ज्यादा निकले। मसलन, मरकज के ज्यादा निकले। मरकज के आसपास का जो निजामुद्दीन का एरिया है, उसी तरह दिल्ली के दिलशाद गार्डर में थोड़ा ज्यादा मरीज निकले थे। हमारे ऐसे जो एरिया हैं, उनमें हम रेपिड टेस्ट को ज्यादा इस्तेमाल करेंगे और रैंडम टेस्ट भी कराएंगे, ताकि पता चल सके कि वहां पर कोरोना फैल तो नहीं रहा है। इन स्थानों पर रैपिड टेस्ट के साथ डिटेल टेस्ट का भी इस्तेमाल किया जाएगा।

ट्रेसिंग कर लोगों को सेल्फ क्वारेंटाइन करेंगे और संभावित एरिया को सील करेंगे- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दूसरा टी है, ट्रेसिंग। हमने जांच में पता कर लिया गया कि यह आदमी कोरोना पाॅजिटिव है। वह व्यक्ति 14 दिन में किस-किस से मिला, उन सभी को चिंहित किया। हमारे डाॅक्टरों और अधिकारियों की विशेष टीम उन्हें चिंहित करती है। उन सभी लोगों को सेल्फ क्वारेंटाइन में डाल दिया जाता है। उनको कहा जाता है कि आप घर से बाहर नहीं निकलेंगे। यह ट्रेसिंग दिल्ली के अंदर बहुत ही अच्छे स्तर पर चल रही है। अब हमने पुलिस की भी मदद लेनी शुरू कर दी है। एक आदमी पाॅजिटिव निकला। उसने बताया कि वह 14 दिनों के अंदर इन 100 लोगों से मिला है। हमने उन 100 लोगों को सेल्फ क्वारेंटाइन के लिए घर में 14 दिन तक रहने के लिए कहेंगे। अब वह 14 दिनों तक घर में रह रहे हैं या नहीं रह रहे हैं। इसके लिए हम पुलिस की मदद ले रहे हैं। अभी तक हम लोगों ने पुलिस को ऐसे 27702 लोगों के फोन नंबर दिए हैं। यह पता करने के लिए कि जिन्हें सेल्फ क्वारेंटाइन के लिए कहा गया है, वे घर में रह रहे हैं या नहीं। उनके फोन से पता चल जाता है कि उनके मोबाइल का लोकेशन बदल तो नहीं रहा है। उनकी हम निगरानी कर रहे हैं।

इसके साथ-साथ हम यह भी पता कर रहे हैं, मकरज के जो लोग निकाले गए थे, ऐसे 2 हजार फोन नंबर आज हम पुलिस को देने जा रहे हैं कि मरकज के अंदर जितने लोग थे, कहीं वे बाहर के एरिया में घूमे तो नहीं थे। अगर वे बाहर के एरिया में घूमे थे, तो कहां-कहां गए थे, वह पता चलेगा, तो उन एरिया को सील कर दिया जाएगा। ट्रेसिंग के आधार पर हम उन्हें सेल्फ क्वारेंटाइन करेंगे, सीलिंग करेंगे और माॅनिटरिंग करेंगे कि लोग सेल्फ क्वारेंटाइन कर रहे हैं या नहीं।

2450 सरकारी अस्पतालों के और 450 प्राइवेट अस्पतालों के बेड कोरोना मरीजों के लिए चिंहित, होटल के 12 हजार कमरे भी करेंगे टेकओवर- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बताया कि हमारा तीसरा टी-ट्रीटमेंट है। जो बीमार हो जाता है, उसका इलाज कराना है। अभी तक दिल्ली में करीब 525 कोरोना के कुल पाॅजिटिव केस आए हैं। हमने पहले ही करीब 3 हजार बेड की क्षमता तैयार कर ली है। एलएनजेपी अस्पताल को कोरोना अस्पताल घोषित कर दिया है। अब वहां किसी अन्य बीमारी का इलाज नहीं हो रहा है। वहां 1500 बेड हैं। जीबी पंत अस्पताल में 500 बेड हैं। उसको भी कोरोना अस्पताल घोषित कर दिया है। राजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में 450 बेड हैं, उसको भी पूरी तरह से कोरोना अस्पताल घोषित कर दिया है। इस तरह 2450 बेड सरकारी अस्पतालों में हैं और 400 बेड हमने प्राइवेट अस्पतालों में कोविड बेड घोषित कर दिए हैं। इसमें मैक्स साकेत का ई-ब्लाॅक पूरी तरह से कोविड-19 घोषित कर दिया गया है। यहां 318 बेड हैं। अपोला के 50 बेड कोविड-19 घोषित किया गया है। गंगाराम काॅलमेट के 42 बेड को हमने कोरोना के लिए घोषित कर दिया है। कुल मिला कर 2950 बेड हैं, जबकि दिल्ली में अभी तक 525 मरीज हैं। 2950 बेड हमारे कोरोना के लिए अगल से चिंहित कर दिए गए हैं। इस तरह लगभग 3 हजार कोविड-19 के मरीज हैं, तो हमारे पास बेड हैं। यदि यह आंकड़ा 3 हजार को पार कर जाता है, तो हम जीटीबी अस्पताल को पूरी तरह से कोरोना के लिए घोषित कर देंगे। जीटीबी में कुल 1500 बेड हैं। इसके बाद कुल 4500 बेड हो जाएंगे। इस तरह से हमने योजना बनाई है कि 3 हजार मरीज होंगे, तो क्या होगा, 4000, 5000 या 6000 मरीज होगा तो किस अस्पताल को टेक ओवर करेंगे। इस तरह से अगर दिल्ली में कोरोना के 30 हजार मरीज हो जाते हैं, जिसमें इलाज किए हुए मरीज शामिल नहीं है, कुछ लोग इलाज करके घर चले गए, उन्हें छोड़ कर यदि दिल्ली में 30 हजार कोरोना के सक्रीय मरीज होंगे, तो उसकी हमने पूरी तैयारी कर ली है। यह 30 हजार बेड हमारे करीब 8 हजार अस्पतालों के होंगे। यह बेड किन-किन अस्पतालों में होंगे, उन सभी को चिंहित कर लिया गया है।

इसके अलावा होटल के 12 हजार कमरे टेक ओवर किए जाएंगे। किस-किस होटल को कब टेक ओवर किया जाएगा, उसका खाका तैयार कर लिया गया है। इसके अलावा 10 हजार मरीजों को बैंैक्वेट और धर्मशालाओं में रूकवाया जाएगा। इस तरह 30 हजार मरीजों में जो सबसे गंभीर होंगे, जिन्हें हाॅर्ट, लीवर, कैंसर, सांस या डायबिटिज की बीमारी होगी और जिनकी उम्र 50 से अधिक है, सभी को अस्पताल में रखा जाएगा। जिन लोगों में समान्य लक्षण होगा, जिन्हें गंभीर बीमारी नहीं होगी और 50 से कम उम्र होगी, इन लोगों को हम होटल या धर्मशालाओं में रखेंगे। वहां भी उनको सारी मेडिकल सुविधाएं मौजूद होंगी। लेकिन जो गंभीर बीमारियों से ग्रसित मरीज होंगे, उनके लिए 8 हजार बेड का इंतजाम किया जाएगा।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कितने मरीजों पर हमें कितने वेंटिलेटर और आॅक्सीजन की जरूरत होगी, उसका भी खाका तैयार है। 30 हजार मरीजों के होने पर हमें 400 वेंटिलेटर और 1200 आॅक्सीजन बेड की जरूरत पड़ेगी। इन सब की तैयारी की जा रही है और काफी तैयारी हो चुकी है। कितने मरीजों पर कितने पीपीई की जरूरत पड़ेगी, इसका भी आंकड़ा तैयार है। इस वक्त बाकी चीजों की दिक्कत नहीं है। पीपीई की थोड़ी दिक्कत आ रही थी। केंद्र सरकार से हमें पीपीई किट की थोड़ी सी मदद मिली है। हमने भी पीपीई किट के आॅर्डर कर दिए हैं। अगले सप्ताह तक वह हमें मिलने शुरू होंगे। अभी स्थिति चिंताजनक थी, लेकिन कल केंद्र सरकार से चिट्ठी आई है कि 27 हजार पीपीई किट दे रहे हैं। इस तरह पीपीई किट की समस्या भी हमारी अब काफी हद तक दूर हो जाएगी।

केंद्र व सभी राज्य सरकारों के साथ सभी लोगों को एक परिवार की तरह मिल कर काम करने की जरूरत- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि चैथा हमारा टी है, टीम वर्क। इस कोरोना को कोई अकेले ठीक नहीं कर सकता है। टीम की तरह जब तक हम काम नहीं करेंगे, तब तक हम कोरोना को हरा नहीं सकेंगे। मुझे बड़ी खुशी है कि आज सभी सरकारें राजनीति से उपर उठ कर काम कर रही हैं। केंद्र सरकार, राज्य सरकारें और सभी एजेंसीज मिल कर काम कर रहे हैं। इसमें सभी राज्य सरकारों को भी मिल कर काम करना होगा। अगर हम दिल्ली के लोग बैठ कर यह सोचें कि हमें अपनी दिल्ली का सोचना है। महाराष्ट्र में कोई बीमार है, तो उसकी हमें चिंता करने की जरूरत नहीं है। तो ऐसा नहीं है। महाराष्ट्र में जो बीमार है और जिस दिन लाॅक डाउन खुला और वह दिल्ली आएगा, तो फिर दिल्ली में फैला जाएगा। इसी तरह दिल्ली में कोई बीमार हुआ और वह पश्चिम बंगाल चला गया, तो वहां भी फैल जाएगा। इसलिए सभी सरकारों और सभी लोगों को एकजुट होकर, एक परिवार की तरह टीम बन कर काम करना होगा। सभी सरकारों को एक-दूसरे से सीखने की भी जरूरत है। मुझे बहुत खुशी होती है, जब तमीलनाड, केरला, पश्चिम बंगला, मध्यप्रदेश या राजस्थान ने यह अच्छा काम किया, हमें एक-दूसरे से सीख कर उनकी तरह काम करना है।

डाॅक्टर और नर्स हमारी इस टीम और परिवार का अहम हिस्सा हैं। किसी भी हालत में हमें उन्हें बचाना है। वह हमारे सिपाही हैं। उनके परिवार का ख्याल भी हमें रखना है। कहीं-कहीं देखता हूं कि डाॅक्टर्स को उनके पड़ोसी या काॅलोनी के लोगों ने कहा कि आप को तो कोरोना हो गया है, आप काॅलोनी में न आइए। यह सही नहीं है। यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। हमारे इस कड़ी का सबसे अहम हिस्सा डाॅक्टर हैं। हमारे देश के लोगों को लाॅक डाउन के दौरान अपने घर में रहना है। सामाजिक दूरी का पालन करना है। देश के लोग इस टीम के अहम हिस्सा हैं। मै देख रहा हूं कि जरूरत के वक्त जिन लोगों के पास पैसा है, वह लोग सामने आ रहे हैं। संपन्न लोग कोशिश करके पीपीई किट और वेंटिलेटर की व्यवस्था कर रहे हैं। कई सारी धार्मिक व सामाजिक संस्थाएं खाने का इंतजाम कर रही हैं। पक्ष या विपक्ष, सभी लोग मिल कर काम कर रहे हैं। कुछ दिन पहले मैने बीजेपी के नेताओं और विधायकों के साथ बात की थी। कल मैने दिल्ली के सभी सांसदों के साथ बात करने जा रहा हूं। उनके विचार सुनेंगे और उनके साथ काम करेंगे।

पूरी प्रक्रिया की ट्रैकिंग और माॅनिटरिंग मैं खुद करूंगा- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पांचवां टी है ट्रैकिंग एंड माॅनिटरिंग। मैंने जितनी भी बातें बताई, वह सब सही चल रही हैं या नहीं, उसकी माॅनिटरिंग करने की जिम्मेदारी मेरी है। दिल्ली के अंदर 24 घंटे एक-एक चीज को ट्रैक करना कि जो हमने योजना बनाई है, वह योजना उसी के मुताबिक चल रही है या नहीं, इसकी पूरी जिम्मेदारी मेरी है। मैं ट्रैकिंग और माॅनिटरिंग कर रहा हूं और इस पर नजर रखूंगा। मुझे पूरी उम्मीद है कि अगर हम कोरोना से तीन कदम आगे रहेंगे, तो हम कोरोना को जीत पाएंगे।